-->

Care Women's

Health and Personal care

Thursday, April 27, 2017

Child Behaviour Problem के लक्षण / Symptoms of Child Behaviour Problem

Symptoms of Child Behavior Problem


Child Behaviour Problem क्या है ?

मुझे याद है कि 10 year आकाश के लिए कोई कहता था - ' बच्चा बहुत चंचल है ' तो कोई और उसे शैतान कहता था | किसी की नज़रों में मनमानी करने वाला तो किसी कि बात न सुनने वाला बच्चा था, 

आकाश के जैसे बहुत से बच्चे हैं जो सबके बीच में रहते तो हैं लेकिन अकेले होते हैं , वो अपने हिसाब से जीते हैं , लेकिन सारी कमियों के बावजूद आकाश intelligent और active बच्चा था, मूड में आ  जाये तो सबको हंसाता था, लेकिन normal बच्चों के बीच उसका behavior abnormal दिखता था , प्राय: ऐसे बच्चों को difficult child, कहा जाता है साथ ही इसे child behavior problem कहा जाता है |

बहुत से बच्चों में frustration या हार मानने या परिवर्तन के अनुकूल ढल जाने की  क्षमता नही होती है, ऐसी condition में बच्चे जल्दी परेशान  हों जाते हैं , उन्हें शांत कर पाना कठिन होता है | हालाकि बहुत से parents बच्चों की  इस mental state को उसकी 'strong will power' या 'moody' समझते हैं जबकि सच्चाई ये है कि ये बच्चे अपने mood पर control करने में असमर्थ होते हैं इसलिये उनका  behaviour uncontrolled होता है , इसे बच्चे अक्सर tenacious(तुनकमिजाज़) होते हैं, हर वक़्त उछल कूद या छेड़-छाड़ करते दिखाई देते हैं | बात-बात 
पर इन्हें गुस्सा आता है और negative behave करते हैं दरअसल ऐसा behave child behaviour problem का संकेत होता है जिसमें ऊपरी तौर पर healthy दिखने वाला बच्चा वास्तव में mental रूप से disturbed and unbalanced होता है |

Read also : Healthy Tiffin Ideas बच्चों के लिए 

Symptoms of child behaviour problem 

  • बच्चे को जल्दी गुस्सा आना  और गुस्से में हाथ-पैर चल जाना, 
  • एक activity के बाद तुरंत दूसरी activity के लिए कठिनाई अनुभव करना, 
  • अपनी mistakes or failures के लिए दूसरों को दोष देना ,
  • moody होना कभी-कभी खेल में भी ज्यादा देर मनन नही लगना,
  • नींद की समस्या होना ,
  • ध्यान केन्द्रित न कर पाना ,
  • एक स्थान पर शांत न बैठ पाना ,
  • दूसरे बच्चों को चिढाने में मज़ा आना ,
  • किसी कि भी चीज़ उठा और उसे देखना (permission लेने कि ज़रूरत न समझना )
  • मिलजुलकर खेलना या ग्रुप में काम करने के लिए तैयार न होना ,
  • rules को ख़ास importance न देना ,
  • गलत भाषा का प्रयोग करना ,
  • चीजों के ख़राब हों जाने या टूट जाने पर व्यवहार में लापरवाही बरतना ,
इनके आलावा   in person इनके साथ और भी  समस्यांए हों सकती है जिन्हें parents को पहचानना चाहिए |

Read also : what is sleepwalking? how to keep safe it in hindi 
                            What is the reason of growing teen suicide? how to stop it ?

Child Behavior Problem को कैसे deal करें ?

deal with child behavior problem


1 .कुछ ऐसे parents हैं जो बच्चों के प्रति अपना गुस्सा control नही कर पाते हैं , गुस्सा आना natural है  लेकिन अपना गुस्सा बच्चों पर दिखाना सही नही है अगर आपको अपने बच्चे के behavior पर गुस्सा आ रहा है तो भी आपको शांत रहने की  कोशिश करना चाहिए बच्चों को तभी समझाए जब आप शांत व सहज हों जाएँ, वरना आपका reaction बच्चों पर opposite effect डाल सकता है |

2.अपने बच्चों की  मानसिकता को समझिये व उनकी भावनाओं को accept करें उसका behavior सही नही हैं लेकिन उनकी sensation(संवेदनाएं) real है | बच्चों को कुछ इस प्रकार आप समझा सकते हैं " हम तुम्हारी feelings को समझते हैं , लेकिन inappropriate behavior सही नही माना जाता है तुम अपने मन की  बात बताओ हम सुनेंगे | "

3. बच्चों के negative behavior को neglect करते हुए उनके positive behavior पर ज्यादा ध्यान दीजिये|

4. difficult बच्चे hyper active होते हैं इन्हें एक activity के बाद दुसरे activity के लिए mental रूप से तैयार करना पड़ता है कहने का मतलब ये है कि अगर आपका बच्चा painting कर रहा है और आप चाहती हैं कि इसके बाद वह अपना homework करने लगे तो उसके painting खत्म करने का wait मत करिए बल्कि उसे पहले ही कह दें -" painting ख़त्म करके homework कर लेना " वरना बच्चा आपकी बात को अनसुना करके आपनी मनमानी कर सकता है, बहुत ज़रूरी है कि बच्चों की  activity प्लान कर ली जाये अगर वह काम को सही तरीके से नही कर रहा तो उसे डांटने या नुक्स निकालने की  बजाय  उसे दूसरा direction दें |

5.ऐसे बच्चों के साथ थोडा flexible होना चाहिए बच्चों के मनन को महसूस करना चाहिए |

6. ऐसे शब्दों पर जोर दें, जो उनमें self confidence लाये, ऐसे बच्चों में self confidence की  कमी होती है जब बच्चा अच्छा काम करे तो उन्हें शाबाशी दें, अपने मुह से ऐसे शब्द न निकालें जो बच्चों के self confidence को ठेस पंहुचा सकते हैं , ऐसे बच्चे उपर से जितने कठोर दिखते हैं अन्दर से उतने ही  emotional होते हैं problem सिर्फ इतनी है कि वह खुद को expressed करने में असमर्थ होते हैं, "तुम इतने stupid हों " जैसे वाक्य न कहे |

7.बच्चों का ऐसा behavior प्रायः 11-15 year की age तक normal सा होने लगता है लेकिन अगर abnormal लगे तो बेहतर होगा कि counseling  ले ली जाये ताकि parents और बच्चों के बीच एक emotional attachment हो सके |

8. जिन बच्चों में child behavior problem के लक्षण नज़र आते हैं उन बच्चों का energy level normal बच्चों के मुकाबले अधिक होता है अतः इनकी activity इस प्रकार प्लान की जाये कि वो physically थक जाएँ लेकिन mentally खुश रहें |

ऐसे बच्चों के पालन पोषण में बहुत ज्यादा tolerance, patience, humility,व  flexibility की  ज़रूरत होती होती है फिर भी  आप हिम्मत न हारें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगे तो please social network में ज़रूर share करें | thank you 
Hey friends welcome to my blog Care Women's.i am Sabiha Khan from pune, India. i started care women's as a passion. Here at care women's I write about women's health, parenting, self improvement, realationship and beauty tips.

Follow by Email