-->

Care Women's

Health and Personal care

Friday, May 5, 2017

10 Best Parenting Tips in Hindi / 10 Best Parenting Tips जानिए हिंदी में

10 Best Parenting Tips in Hindi
10 Best Parenting Tips

माता-पिता के रूप में आप अपने बच्चों की उनकी life में एक अच्छी शुरुआत देते हैं आप उनका पालन करते हैं , उन्हें protact करते हैं और उन्हें एक अच्छी guidence देते हैं | parenting एक ऐसी process है जिसमे आप अपने बच्चों को indipendent होने के लिए तैयार करते हैं | जैसे की आपका बच्चा बढ़ता है develop होता है | अगर आपकी सही parenting नही करेंगे  तो कुछ बच्चे पर बुरा असर भी पड़ सकता है हों सकता है कि वे misbehave भी करें | 

Read also: 



माता-पिता होने के नाते ये उनकी बड़ी responsibilty होती है | कई parents ये भी feel करते हैं कि अगर उनका बच्चा life में कुछ अच्छा नही कर रहा  है, तो वे खुद को failiar समझते हैं | एक अच्छी parenting से बच्चे में sympathy, self-esteem. honesty और self-control विकसित होता है | और आगे की life में जब बच्चा किशोरावस्था में आता है तब अच्छी parenting उन्हें anti-social behavior से बचाने में help करती है |

अपने बच्चे के साथ आपका सम्बन्ध ये दर्शाता है कि वे कैसे काम करते हैं अगर आपका आपके बच्चे के साथ एक अच्छा  रिश्ता है तो आपका बच्चा आपकी बात सुनेगा और अगर आपका रिश्ता अच्छा नही है तो आपकी बातों को ignore कर देगा | नीचे कुछ parenting tips दिए गए हैं मुझे उम्मीद है कि ये tips आपके useful होगी |

1.अपने बच्चे की  respect करें 

अगर आप चाहते हैं कि आपके बच्चे आपकी respect करें तो यह उन्हें सिखाना पड़ेगा कि respect का मतलब क्या होता है और सिखाने के लिए सबसे अच्छा तरीका यह है कि जब आप अपने बच्चे से बात करें तो polite रहें, जब बच्चे आपसे कुछ share करें तो उनके opinion  की  respect करे, जब बच्चे आप से बात करें तो उन्हें पूरा attention दें हों सके तो उनका जवाब भी दें |

2. अपने बच्चे को freedom दें 

हांलाकि अपने बच्चे के अन्दर एक सीमा निर्धारित करने के लिए उन्हें self-control की भावना देना important है, , लेकिन अपनी limits के अन्दर उन्हें उनकी खुद की choice बनाने के लिए independence को encourage करना चाहिए | उन्हें खुद के फैसले लेने की अनुमति देनी चाहिए | जिसकी वजह से उनके life में किसी दुसरे के  control की  बजाय उनका खुद का control हों |

3.Guidlines बनाएं और उनके साथ रहें 

कम age में अपने बच्चे को गाइड करना ज़रूरी है | आप अपने बच्चों को ऐसे rules दें और उनके साथ रहें जिससे वे खुद तय करें कि वे कौन है उनका behavior कैसा है | बड़े होने पर उन्हें उनकी पसंद बनाने दें |

4.Adaptable रहें 

बच्चे जल्दी बड़े हों जाते हैं इसलिये उनके development के साथ आपको भी रहना है, बच्चों का development उनके behavior के रूप में होता है इसलिये सभी stage में खुद को adaptable रखें | आपका बच्चा क्या कर रहा  है क्यों कर रहा  है इस पर ज़रूर धयान दें especially किशोरावस्था के समय | अगर आपका बच्चा श्रेष्ठ नही है तो उसे push न करें बल्कि कोई solution निकालें |

5.दया के साथ discipline

 parents होने के नाते कभी कभी discipline होने भी ज़रूरी है | अपने बच्चों को discipline देने की समय सीमा भी समाप्त हों सकती है | अगर बच्चा चुपचाप शांत बैठा है तो वह क्या सोचता है क्या करता है इस पर ध्यान दीजिये न कि aggressive होइए |

6. Expectations के बारे में बातचीत करें 

अपने बच्चों को समझाते हुए उनसे पूछिये कि आपकी expectations क्या है , जब बच्चे छोटे होते हैं तो उन्हें parents अच्छे और बुरे के बारे में समझाते हैं लेकिन जब बच्चे बड़े हों जाते हैं तो उनका explanation कम होने लगता है जबकि बड़े बच्चों को भी आने वाली चुनौतियों का सामना करने  के लिए अपने parents की ज़रूरत होती है | अपने बच्चे को किसी भी age में बताये कि उनकी उनसे क्या expectation है | 

7. Present में रहो 

हमने अक्सर देखा है कि parents अपने past को अपने present में लाने की कोशिश करते है | वे अपने बच्चों से वैसी expectations रखते हैं जैसा वो अपने किशोरावस्था में थे लेकिन parents को समझना चाहिए कि time बदल चूका है और उन्हें अपने बच्चों के साथ present में जीना है इसलिये आपको खुद को बदलना होगा | और हर क़दम पर अपने बच्चो का साथ देना होगा |

8. प्यार करें 

अपने बच्चों से प्यार करें  उन्हें support करें, अच्छा feel कराएँ  क्योंकि जब भी  वह अच्छा feel नही करें तो वे आपके पास आयें | और साथ ही  उन्हें उनकी life में सही direction में guide करें |

9. अपना बेस्ट दें 

आप जिस तरह का person बनते हैं वैसा बच्चे भी बनने की  कोशिश करते हैं | इसलिये आप हमेशा अपना बेस्ट दें , अपने goals के लिए प्रयास ज़ारी रखे  और  अपने बच्चे पर positive influence डालना ज़ारी रखें | अन्य लोगों के बारे में बात करने से बचे क्योंकि अगर आप किसी की  बुराई करते हैं तो आपका बच्चा आपको देखकर सीखने की  कोशिश करता है | इसलिये खुद को busy रखने की  कोशिश करिए | और एसीचीज़े करिए जिससे आपको अच्छा  लगे और आपका बच्चा आपको देखकर सीखे जिससे बच्चे का development हों |

10. Compare  मत करिए 

आपको पता है कि आपके बच्चे के अन्दर सबसे ज्यादा negativity कब आती है जब आप अपने बच्चे का compare किसी और बच्चे के साथ करते हैं | ऐसा करने से आपका बच्चा खुद को अकेला महसूस करने लगता है इसलिये कभी भी किसी से compare मत करिए हों सकता है कि आपके बच्चे में जो quality हों वो दूसरे में न हों |

मुझे उम्मीद है कि आपको ये पोस्ट पसंद आएगी | Thank you
Hey friends welcome to my blog Care Women's.i am Sabiha Khan from pune, India. i started care women's as a passion. Here at care women's I write about women's health, parenting, self improvement, realationship and beauty tips.

Follow by Email