-->

Care Women's

Health and Personal care

Tuesday, November 7, 2017

What Symptoms of Hormonal Imbalance in Women in Hindi

what symptoms of hormonal imbalance in women

Hormonal imbalance in women-हॉर्मोन हमारे body system में physiology और behavior को regulate करने के लिए messenger की तरह काम करता है | जैसे कि digestion, stress, respiration, metabolism, reproduction, tissue function, sleep etc.
अगर आपका hormone imbalance है तो body system पर बहुत effect पड़ता है | क्योंकि जब भी हमारी  body में  hormone imbalance होता है तो हमारी  health ख़राब हो जाती है | इसलिए healthy रहने के लिए hormone का balance होना बहुत ज़रूरी है | इस article में हम यह जानेंगे कि women में hormonal imbalance के  वास्तविक लक्षण क्या हैं ?

Read also:




Women में Hormonal Imbalance के  लक्षण (Symptoms of Hormonal Imbalance in Women)

1. नींद की समस्या (sleep problem)

अगर आप पर्याप्त मात्रा में नींद नही ले पा नही हैं तो समझ जाइये कि आपका hormone imbalance है | ovaries से release होने वाला hormone का level जब सामान्य से कम हो जाता है, तो इससे आपके नींद में problem हो सकता है | इसी प्रकार एस्ट्रोजन hormone के imbalance होने की वजह से रात में body में पसीना आना और body का गर्म होना जैसी समस्या हो सकती है | इसलिए दोनों hormone को balance रखना बहुत ज़रूरी है |

2.स्मरणशक्ति कमजोर होना  (memory loss problem) 

एक्सपर्ट को  sure नही  है कि वास्तव में  hormone memory को कैसे प्रभावित करता है | उनके अनुसार progesteron और estrogen hormone imbalance की वजह से memory धूमिल हो जाती है | जिससे चीज़ों को याद करना थोडा कठिन हो जाता है | अगर आपको अचानक से feel होने लगे कि आपकी memory कमजोर हो रही है तो अपने चिकित्सक से परामर्श ज़रूर लें |

3. पेट सम्बन्धी समस्या (stomach problem)

अगर आपको लगातार दस्त, मतली , पेट दर्द जैसी समस्या बने रहती है तो यह भी hormonal imbalance का कारण हो सकता है | इसलिए इस तरह की समस्या आने पर चिकित्सीय मदद ज़रूर लें |

4. थकान महसूस करना( feeling tired)

अगर आप हमेशा थकान महसूस करती हैं तो यह भी hormonal imbalance के आम लक्षणों में से एक है | आपके thyroid ग्लैंड जब कम thyriod hormone बनाता है तो body की energy कम होने लगती है जिससे थकान महसूस होने लगती है | इसलिए आप अपने चिकित्सक की सलाह से thyriod test ज़रूर  करवाएं |

5. मुहांसों की समस्या (acne problem)

periods के दौरान मुहांसे का  निकलना normal होता है लेकिन ऐसे मुंहासे जो ठीक नही होते हैं  hormonal imbalance के  कारण होता है | androgen hormone जो पुरुष और महिलाओं दोनों में पाए जाते हैं , imbalance होने के  कारण अधिक मात्रा में तेल ग्रंथियों से तेल को पैदा कर सकते हैं | androgen आपके skin cells को प्रभावित करता है जो acne का  कारण बनता है | 

6. तनाव (depression)

शोधकर्ताओं का  मानना है कि लगातार hormone में बदलाव आना depression का  कारण हो सकता है | क्योकि estrogen आपके  मस्तिष्क रसायनों जैसे सेरोटोनिन, डोपामाइन जैसे hormone को प्रभावित करता है, जिससे आपका मूड बदलता रहता है | 

7. वजन बढ़ना (weight gain)

 महिलाओं में पीरियड के दौरान या उससे पहले अगर सर दर्द जैसी समस्या होती है तो इसकी वजह estrogen hormone में होने वाली गिरावट हो सकती है | अगर प्रत्येक महीने में सर दर्द जैसी problem हो रही है तो इससे आपको clue मिल जाता है कि आपके estrogen level में परिवर्तन हो रहा है | 

8. स्तन परिवर्तन (breast change)

estrogen hormone में कमी ब्रैस्ट के tissue को कम कर सकते हैं और hormone की वृद्धि tissue को मोटा कर सकते हैं जिससे breast में गाँठ भी हो सकता है | इसलिए अगर आपको थोडा भी महसूस हो कि आपके स्तन में परिवर्तन हो रहा है तो अपने चिकित्सक से ज़रूर परामर्श लें |

Women में Hormonal Imbalance के  कारण (Reasons of Hormonal Imbalance)

1. गलत आहार (wrong food)

Hormone को balance करने के लिए खाद्य पदार्थों का बहुत बड़ा effect पड़ता है, और गलत आहार hormonal imbalance का एक प्रमुख कारण बन सकता है :
  • बहुत ज्यादा carbohydrate होना
  • बहुत कम fatty acid होना 
  • बहुत ज्यादा unhealthy fat होना 
  • बहुत ज्यादा sugar होना 
  • बहुत कम फाइबर होना 

2. विषाक्त पदार्थ (toxins)

आपको मालूम होगा कि विषाक्त पदार्थ न केवल खाने पीने के  माध्यम से हमारे शरीर में  प्रवेश करते हैं बल्कि यह pollution और दवा के  मध्यम से भी हमारे शरीर में प्रवेश करते हैं | जब यह toxins हमारे body में  ओरवेश करते हैं तो सबसे ज्यादा लीवर पर effect पड़ता है | 

Extra estrogen को तोड़ने के लिए और system से बाहर करने के लिए liver एक बहुत important organ होता है | और जब high toxins की वजह से लीवर overloaded हो जाता है तो estrogen का level बढ़ने लगता है जिससे hormone का  balance बिगड़ने लगता है | 

3. तनाव (stress)

Physically और mentally stress भी hormonal imbalance का  कारण होता है | गंभीर तनाव इतना शक्तिशाली होता है कि यह आपके hormone को पूरी तरह परिवर्तित कर सकता है | 

4. उम्र बढ़ना (aging)

उम्र का बढ़ना भी hormonal imbalance का  एक कारण होता है | महिलाओं की उम्र जैसे जैसे बढ़ते जाती है estrogen और progesterone hormone में  गिरावट होने लगती है  | unfortunately, progesterone का स्तर  estrogen की तुलना में जल्दी गिरता है | estrogen progesterone की तुलना  में जल्दी कम नही होता है और यही अंतर hormonal imbalance का  कारण होता है | 

5. आहार और व्ययाम 

ऐसा आहार जो आपके hormone को ignore करे वो आहार नही कहलाता है | और बहुत ज्यादा या बहुत कम exercise करना भी hormonal imbalance का  एक कारण है | 

आपका आहार और आपकी दिनचर्या आपके  hormone के  साथ काम करना  चाहिए उनके against नही | सही आहार और सही दिनचर्या hormone को balance बनाकर चलते हैं | 

Hormone को naturally कैसे balance करें?

1. Healthy fat का सेवन करें 

आपके body को hormone बनाने के लिए विभिन्न प्रकार के fat की ज़रूरत होती है | यह  आवश्यक fat building block न केवल hormone बनाने के लिए हैं बल्कि ये body में inflammation के level को low रखते हैं , metabolism को boost करते हैं और weight lose को promote करते हैं | example- coconut oil, olive oil, egg, animal fat, omega-3 fish etc.

2. हानिकारक chemical से बचें 

आपके आसपास कई ऐसे चीज़ें होती है जिनमे हानिकारक रसायन पाए जाते हैं जैसे पेस्टिसाइड , प्लास्टिक, घरेलु क्लीनर etc. इन chemical में hormone को ख़राब करने वाले chemical पाए जाते हैं ji body में hormone की नक़ल करते हैं और body को असली hormone बनाने से रोकते हैं | 

इसके अलावा कुछ ऐसे beauty product होते हैं जो ख़राब chemical से बने होते हैं इसलिए ऐसे product को use करने से बचना चाहिए कोशिश यही करें की अछे ब्रांड के product use करें या फिर homemade remedie का use करें |

3. सही तरीके से exercise करें 

अगर hormonal imbalance की problem है तो कोशिश करें कि  walking, swimming जैसे आराम वाले exercise करें | hormone balance के दौरान sleep बहुत ज़रूरी है | running, या कार्डियो जैसे exercise से परहेज करें |

4. नींद को प्राथमिकता दें 

जब आप सोते हैं तब आपका शरीर टोक्सिन को हटाने, मन को रिचार्ज करने और hormone को बनाने के लिए एक्टिव होता है , अगर एक रात के लिए आपकी नींद पूरी नही होती तो hormone पर बहुत प्रभाव पड़ सकता है अपनी नींद को improve करने के लिए यह tips ज़रूर follow करें 
  • artificial lights को avoid करें | सोने से पहले लैपटॉप और मोबाइल का  use न  करें |
  • दिन में पर्याप्त मात्रा में पानी पिए जिससे रात में ज्यादा पानी पीने की ज़रूरत न हो |
  • सोने से पहले नमक डालकर पानी से नहाए इससे आपको बहुत रिलेक्स feel होगा |
  • stress कम करने के लिए prayer करें , मैडिटेशन करें |
  • bed में जाने से पहले खुद को रिलैक्स करने के लिए मसाज करें |

5. कैफीन का उपयोग सिमित करें 

आप कॉफ़ी lover हो या  चाय lover | लेकिन सच्चाई यह है कि कैफीन endocrine system को बहुत बुरी तरह से प्रभावित करती है विशेषकर अगर गर्भावस्था, तनाव ,fat imbalance और toxins की उपस्थिति शामिल हो | अगर आप कर सकते हैं तो कॉफ़ी या tea की जगह हर्बल tea का  सेवन करें जो आपके लिए फायदेमंद होगा | 

6. लेप्टिन को फिक्स करें 

लेप्टिन एक मास्टर hormone है अगर आपका मास्टर hormone imbalance होगा तो कोई भी अन्य hormone balanced नही हो पायेगा | लेप्टिन को फिक्स करने से फर्टिलिटी boost होगी, weight lose होगा और नींद में भी सुधार होगा | 

अगर आपको hormonal imbalance in women से सबंधित जानकारी पसंद आये तो इसे share करना न भूलें | 





Hey friends welcome to my blog Care Women's.i am Sabiha Khan from pune, India. i started care women's as a passion. Here at care women's I write about women's health, parenting, self improvement, realationship and beauty tips.

Follow by Email